वित्त वर्ष 2021-22 में कृषि निर्यात 20 प्रतिशत बढ़कर 50 अरब डॉलर रहा

Published on : 09:27 PM Apr 09, 2022

वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान कृषि निर्यात (agri exports) लगभग 20 प्रतिशत बढ़ा है. चावल का निर्यात ( Exports of rice) कृषि जिंसों में 9.65 अरब डॉलर के साथ विदेशी मुद्रा अर्जित करने में सबसे आगे रहा. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी.

नई दिल्ली : कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न चुनौतियों के बावजूद भारत का कृषि निर्यात वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान लगभग 20 प्रतिशत बढ़कर 50.21 अरब डॉलर हो गया. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी. एक बयान में कहा गया कि वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान चावल का निर्यात कृषि जिंसों में 9.65 अरब डॉलर के साथ विदेशी मुद्रा अर्जित करने में सबसे आगे रहा. यह आंकड़ा पिछले वर्ष की तुलना में 9.35 प्रतिशत अधिक है. वर्ष 2021-22 में गेहूं का निर्यात बढ़कर 2.2 अरब डॉलर का हो गया, जो पिछले वित्त वर्ष में 567 अरब डॉलर था.

Advertisement

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_2320 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-2273723226287-1").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_2320 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-2273723226287-1").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_2320=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-728x90-1", [728, 90], "div-gpt-ad-2273723226287-1").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-2273723226287-1");googletag.pubads().refresh([slot_2320]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-2273723226287-1");googletag.pubads().refresh(); });

वर्ष 2020-21 में 32.3 करोड़ डॉलर के डेयरी उत्पादों के निर्यात के मुकाबले वर्ष 2021-22 में इन उत्पादों का निर्यात 96 प्रतिशत बढ़कर 63.4 करोड़ डॉलर हो गया, जबकि मांस का निर्यात वर्ष 2020-21 के 3.17 अरब डॉलर से बढ़कर वर्ष 2021-22 में 3.30 अरब डॉलर का हो गया. कुक्कुट (मुर्गीपालन वाले) उत्पादों का निर्यात वर्ष 2021-22 में बढ़कर 7.1 करोड़ डॉलर का हो गया, जो पिछले वर्ष 5.8 करोड़ डॉलर था। भेड़/बकरी के मांस का निर्यात वर्ष 2021-22 में 34 प्रतिशत बढ़कर छह करोड़ डॉलर का हो गया.

कृषि उत्पादों के प्रमुख निर्यात गंतव्यों में बांग्लादेश, संयुक्त अरब अमीरात, वियतनाम, अमेरिका, नेपाल, मलेशिया, सऊदी अरब, इंडोनेशिया, ईरान और मिस्र शामिल हैं. बयान के मुताबिक, 'कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादों के निर्यात में वृद्धि मुख्य रूप से एपीडा के माध्यम से केंद्र द्वारा की गई विभिन्न पहलों के कारण हुई है. भारतीय दूतावास के सक्रिय सहयोग के साथ विभिन्न देशों में बी2बी प्रदर्शनियों का आयोजन, उत्पाद विशिष्ट और सामान्य विपणन अभियानों के माध्यम से नए संभावित बाजारों की खोज करना जैसे प्रयास शामिल हैं.' एपीडा के चेयरमैन एम अंगामुथू ने कहा कि 50 कृषि उत्पादों का एक आधार तैयार किया गया है जिसमें निर्यात बढ़ाने की भरपूर संभावनाएं हैं. Advertisement

Read More :

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_3368 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-2", [300, 250], "div-gpt-ad-6296764167029-2").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_3368 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-2", [300, 250], "div-gpt-ad-6296764167029-2").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_3368=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-728x90-2", [728, 90], "div-gpt-ad-6296764167029-2").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-6296764167029-2");googletag.pubads().refresh([slot_3368]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-6296764167029-2");googletag.pubads().refresh(); });

पढ़ें- India Exports: बासमती चावल व दार्जिलिंग चाय के बाद इन भारतीय उत्पादों की विश्व बाजार में पैठ

(पीटीआई-भाषा)

Next
Latest news direct to your inbox.