50% कोविड रोगी सही होने के छह महीने बाद तक लक्षणों का सामना करते हैं : अध्ययन

Published on : 06:16 PM Oct 14, 2021

अमेरिका के पेन स्टेट कॉलेज ऑफ मेडिसिन के अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि बीमारी के दौरान कोविड-19 के अनेक रोगियों में थकान, सांस लेने में कठिनाई, छाती में दर्द और स्वाद या गंध चले जाने जैसे लक्षण होते हैं.

वॉशिंगटन : कोविड-19 से संक्रमित हुए आधे से अधिक लोगों में स्वस्थ होने के छह महीने बाद तक कुछ लक्षण सामने आते रहते हैं, जिसे 'लांग कोविड' कहते हैं.

Advertisement

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_3893 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-2166429087606-0").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_3893 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-2166429087606-0").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_3893=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-International-728x90-1", [728, 90], "div-gpt-ad-2166429087606-0").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-2166429087606-0");googletag.pubads().refresh([slot_3893]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-2166429087606-0");googletag.pubads().refresh(); });

अमेरिका के पेन स्टेट कॉलेज ऑफ मेडिसिन के अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि सरकारों, स्वास्थ्य देखभाल संगठनों और सार्वजनिक स्वास्थ्य पेशेवरों को बड़ी संख्या में ऐसे मामलों के लिए तैयार रहना चाहिए, जिनमें कोविड से स्वस्थ हो चुके लोगों को अनेक तरह के मनोवैज्ञानिक और शारीरिक लक्षणों के लिए देखभाल की जरूरत हो सकती है.

उन्होंने कहा कि बीमारी के दौरान कोविड-19 के अनेक रोगियों में थकान, सांस लेने में कठिनाई, छाती में दर्द और स्वाद या गंध चले जाने जैसे लक्षण होते हैं. Advertisement

जेएएमए नेटवर्क ओपन पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में 57 रिपोर्ट की समीक्षा की गयी जिनमें 2,50,351 लोगों के आंकड़े शामिल हैं. इनमें वयस्क और बच्चे हैं जिन्हें टीका नहीं लगा था और जिनमें दिसंबर 2019 से मार्च 2021 के बीच कोविड-19 होने का पता चला था.

यह भी पढ़ें- रूस में कोविड-19 के कारण एक दिन में सर्वाधिक लोगों की मौत

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_5194 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-5932614519511-0").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_5194 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-5932614519511-0").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_5194=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-International-728x90-1", [728, 90], "div-gpt-ad-5932614519511-0").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-5932614519511-0");googletag.pubads().refresh([slot_5194]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-5932614519511-0");googletag.pubads().refresh(); });

जिन लोगों पर अध्ययन किया गया, उनमें 79 प्रतिशत को अस्पतालों में भर्ती कराया गया था और अधिकतर रोगी (79 प्रतिशत) अधिक आय वाले देशों के हैं. रोगियों की औसत आयु 54 वर्ष रही और अधिकतर (56 प्रतिशत) पुरुष थे.

(पीटीआई-भाषा)

Next
Latest news direct to your inbox.