भारत की जीडीपी तीसरी तिमाही में 5.4 फीसदी

Published on : 08:01 PM Feb 28, 2022

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा सोमवार को जारी आंकड़ों के आधार पर देश की आर्थिक वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष 2021-22 की तीसरी तिमाही अक्टूबर-दिसंबर में 5.4 प्रतिशत रही है. पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर मात्र 0.7 प्रतिशत थी. विस्तृत जानकारी के लिए पढ़ें ईटीवी भारत की ब्यूरो रिपोर्ट.

नई दिल्ली: भारत की सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर अवधि) में 5.4% की बढ़ोतरी दर्ज की गई है, यह आंकड़ा पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि के दौरान हुई वृद्धि की तुलना में निकाली गई है. सोमवार को राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी नवीनतम आंकड़ों से इस बात की जानकारी मिली है.

Advertisement

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_689 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-8154478963779-1").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_689 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-8154478963779-1").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_689=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-728x90-1", [728, 90], "div-gpt-ad-8154478963779-1").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-8154478963779-1");googletag.pubads().refresh([slot_689]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-8154478963779-1");googletag.pubads().refresh(); });

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) ने कहा कि तीसरी तिमाही में जीडीपी (2011-12 श्रंखला) स्थिर मूल्य पर वित्त वर्ष 2021-22 में 38.22 लाख करोड़ रुपये तक रहने का अनुमान है, जबकि तीसरी तिमाही में यह 36.26 लाख करोड़ रुपये था. पिछले वित्तीय वर्ष में, साल-दर-साल आधार पर 5.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. आज जारी राष्ट्रीय आय के दूसरे अग्रिम अनुमान के अनुसार, वित्त वर्ष 2021-22 के पूरे वित्त वर्ष के लिए स्थिर कीमतों पर वास्तविक जीडीपी या सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) पहले की तुलना में 147.72 लाख करोड़ रुपये के स्तर को छूने का अनुमान है.

पिछले वित्त वर्ष 2020-21 में सकल घरेलू उत्पाद का संशोधित अनुमान 135.58 लाख करोड़ रुपये है. पहले अग्रिम अनुमान के अनुसार, चालू वित्त वर्ष में वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद में 8.9% की वृद्धि होने की उम्मीद है, जबकि पिछले वित्तीय वर्ष में इसमें 6.6% की गिरावट आई थी. जबकि जीडीपी, जो मुद्रास्फीति को भी ध्यान में रखकर निकाली जाती है, वर्ष 2021-22 में मौजूदा कीमतों पर पिछले वित्त वर्ष के 198.01 लाख करोड़ रुपये के मुकाबले 236.44 लाख करोड़ रुपये के स्तर को प्राप्त करने का अनुमान है, जो 19.4 प्रतिशत की वृद्धि दर दर्शाता है. हालांकि अक्टूबर-दिसंबर की अवधि में भारत की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर उसी अवधि के लिए चीन की तुलना में बेहतर है, जहां 4% की वृद्धि दर्ज की गई है, लेकिन इसकी विकास दर पहली दो तिमाहियों की तुलना में घट गई है-अप्रैल से जून और जुलाई से सितंबर की अवधि तक. Advertisement

Read More :

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_8215 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-2", [300, 250], "div-gpt-ad-3103990024389-2").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_8215 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-2", [300, 250], "div-gpt-ad-3103990024389-2").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_8215=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-728x90-2", [728, 90], "div-gpt-ad-3103990024389-2").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-3103990024389-2");googletag.pubads().refresh([slot_8215]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-3103990024389-2");googletag.pubads().refresh(); });

तीसरी तिमाही में जीडीपी विकास दर में गिरावट

नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, भारतीय अर्थव्यवस्था ने अप्रैल-जून की अवधि में 20.3% और जुलाई-सितंबर में 8.5% की वृद्धि दर्ज की गई. पहली तिमाही में देखी गई गिरावट को मुख्य रूप से कम आधार प्रभाव के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था क्योंकि भारतीय अर्थव्यवस्था में अप्रैल-जून 2020 की अवधि में सरकार द्वारा लगाए गए देशव्यापी तालाबंदी के कारण तेजी गिरावट दर्ज की गई थी.

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_9413 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-3", [300, 250], "div-gpt-ad-182820081673-3").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_9413 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-3", [300, 250], "div-gpt-ad-182820081673-3").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_9413=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-728x90-3", [728, 90], "div-gpt-ad-182820081673-3").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-182820081673-3");googletag.pubads().refresh([slot_9413]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-182820081673-3");googletag.pubads().refresh(); });

भारत में, एक वित्तीय वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि के अंतिम आंकड़े प्राप्त करने में तीन साल लगते हैं क्योंकि यह अनुमान और संशोधन के छह चरणों से होकर गुजरता है. आज जारी किए गए दूसरे अग्रिम अनुमान को जीडीपी वृद्धि के अनंतिम अनुमान में और संशोधित किया जाएगा जो मई 2022 के अंत में जारी किया जाएगा, सालाना जीडीपी ग्रोथ 8.9% रहने की उम्मीद सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि का पहला अग्रिम अनुमान औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) के रूप में मापा गया.

यह भी पढ़ें-भारत में सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि की गणना करने में 3 साल क्यों लगते हैं ? जानें

कारखाना उत्पादन, चालू वित्त वर्ष के पहले 9 महीनों की अवधि के लिए निजी क्षेत्र में सूचीबद्ध कंपनियों के वित्तीय प्रदर्शन जैसे संकेतकों का उपयोग करके तैयार किया गया है. वर्षा ऋतु में फसल उत्पादन, प्रमुख पशुधन उत्पादों के उत्पादन का दूसरा अग्रिम अनुमान. इन अनुमानों में केंद्र और राज्य सरकारों के खाते, बैंक जमा और क्रेडिट, रेलवे का प्रदर्शन, नागरिक उड्डयन, प्रमुख समुद्री बंदरगाहों पर माल ढुलाई, वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री आदि शामिल हैं.

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_9081 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-4", [300, 250], "div-gpt-ad-6179211635167-4").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_9081 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-4", [300, 250], "div-gpt-ad-6179211635167-4").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_9081=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-728x90-4", [728, 90], "div-gpt-ad-6179211635167-4").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-6179211635167-4");googletag.pubads().refresh([slot_9081]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-6179211635167-4");googletag.pubads().refresh(); });

यह भी पढ़ें -जनवरी माह में 8 प्रमुख उद्योगों के सूचकांक में 3.7 प्रतिशत की बढ़ोतरी

Next
Latest news direct to your inbox.