अमेरिकी ठिकानों को मजबूत करने से संबंधित पेंटागन की रिपोर्ट चीन को घेरने का प्रयास : अधिकारी

Published on : 08:54 PM Nov 30, 2021

चीन द्वारा पेश की जा रही चुनौतियों का सामना करने के लिए गुआम और ऑस्ट्रेलिया में अमेरिकी ठिकानों (US bases in Guam and Australia) को बढ़ाने से संबंधित पेंटागन की एक रिपोर्ट पर बीजिंग (Beijing on a Pentagon report) ने मंगलवार को आपत्ति जताई है.

बीजिंग : चीनी अधिकारियों का कहना है कि अमेरिकी ठिकानों को मजबूत करने से संबंधित पेंटागन की रिपोर्ट चीन को घेरने का प्रयास (Pentagon report attempts to surround China) है. इस रिपोर्ट पर आपत्ति जताते हुए अधिकारी ने कहा कि यह कदम हिंद-प्रशांत को घेरने (Encircling the Indo-Pacific) और नियंत्रित करने के वाशिंगटन के प्रयासों को पूरी तरह से उजागर करता है.

Advertisement

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_824 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-3711166211407-0").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_824 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-3711166211407-0").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_824=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-International-728x90-1", [728, 90], "div-gpt-ad-3711166211407-0").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-3711166211407-0");googletag.pubads().refresh([slot_824]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-3711166211407-0");googletag.pubads().refresh(); });

अमेरिका की एक वरिष्ठ रक्षा अधिकारी ने सोमवार को कहा था कि चीन का मुकाबला करने के लिए अमेरिकी सेना को बेहतर तरीके से तैयार करने के उद्देश्य से पेंटागन गुआम और ऑस्ट्रेलिया में ठिकाने बनाने पर ध्यान केंद्रित करेगा. इस कदम को रक्षा विभाग की वैश्विक स्थिति समीक्षा के तहत उठाया गया है.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (US President Joe Biden) ने फरवरी में पदभार संभालने के तुरंत बाद रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन को इस समीक्षा का आदेश दिया था. नीति संबंधी मामलों पर उप अवर सचिव की जिम्मेदारी संभाल रहीं डॉक्टर मारा कार्लिन ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बाइडेन ने वैश्विक स्थिति समीक्षा से संबंधित ऑस्टिन के निष्कर्षों और सिफारिशों को हाल में मंजूरी दी है. Advertisement

Read More :

सीएनएन ने अधिकारी के हवाले से कहा कि यह समीक्षा चीन का मुकाबला करने के लिए अमेरिकी रक्षा विभाग को गुआम और ऑस्ट्रेलिया में बुनियादी ढांचे को बढ़ाने और प्रशांत द्वीपों में सैन्य निर्माण को प्राथमिकता देने के साथ-साथ सैन्य साझेदारी गतिविधियों के लिए अधिक क्षेत्रीय पहुंच सुनिश्चित करने का निर्देश देती है.

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने यहां प्रेस वार्ता में इस मामले पर प्रतिक्रिया मांगे जाने पर कहा कि पेंटागन की रिपोर्ट तथाकथित हिंद-प्रशांत क्षेत्र का सैन्यीकरण करने तथा इसे घेरने और चीन को रोकने के उसके वास्तविक इरादों को पूरी तरह से उजागर करती है.

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_4481 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-1888347241400-0").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_4481 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-1888347241400-0").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_4481=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-International-728x90-1", [728, 90], "div-gpt-ad-1888347241400-0").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-1888347241400-0");googletag.pubads().refresh([slot_4481]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-1888347241400-0");googletag.pubads().refresh(); });

यह भी पढ़ें- NATO में सदस्यों को निष्कासित करने का कोई प्रावधान ही नहीं है : नाटो चीफ

झाओ ने कहा कि चीन को खतरा बताकर सैन्य रक्षा व सैन्य शक्ति के विस्तार और सैन्य आधिपत्य बनाए रखने के अमेरिका के प्रयासों का चीन कड़ा विरोध करता है. अमेरिकी पक्ष को एक काल्पनिक दुश्मन खड़ा करने की अपनी शीत युद्ध की मानसिकता को छोड़ देना चाहिए और विश्व शांति व सुरक्षा को खतरे में डालना बंद कर देना चाहिए.

(पीटीआई-भाषा)

Next
Latest news direct to your inbox.