रैनसमवेयर हमले सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के समक्ष पेश सबसे बड़ी चुनौती: भारत

Published on : 03:04 PM Oct 15, 2021

अमेरिका के नेतृत्व में रैनसमवेयर रोधी पहल पर अब तक की पहली अंतरराष्ट्रीय बैठक में भारत ने कहा कि रैनसमवेयर हमले सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के समक्ष पेश सबसे बढ़ी चुनौती हैं.

वाशिंगटन : रैनसमवेयर एक तरह का सॉफ्टवेयर है, जिसके जरिए वसूली करने के लिए लोग, पीड़ितों के कंप्यूटर के संचालन को ब्लॉक कर देते हैं. व्हाइट हाउस द्वारा आयोजित काउंटर रैनसमवेयर इनीशिएटिव में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा समन्वयक लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) राजेश पंत ने कहा कि तेजी से बढ़ते डिजिटलीकरण और क्रिप्टोकरेंसी ने साइबर क्षेत्र को और अधिक संवेदनशील बना दिया है.

Advertisement

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_8289 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-5580722550057-0").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_8289 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-5580722550057-0").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_8289=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-International-728x90-1", [728, 90], "div-gpt-ad-5580722550057-0").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-5580722550057-0");googletag.pubads().refresh([slot_8289]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-5580722550057-0");googletag.pubads().refresh(); });

पंत ने कहा कि रैनसमवेयर, साइबर खतरे का एक विकसित रूप है और अपराधी अधिक परिष्कृत तथा चतुर होते जा रहे हैं. आगामी वैश्विक गतिशीलता ने भी इस डिजिटल स्वरूप को और खतरे में डाल दिया है. उन्होंने कहा कि कोविड-19 वैश्विक महामारी ने भी इसे और बढ़ावा दिया है और डिजिटलीकरण को लेकर जल्दबाजी ने भी सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) को संवेदनशील बनाया है. इसके लिए जिम्मेदार एक और पहलू क्रिप्टोकरेंसी की बढ़ती लोकप्रियता भी है, जिसके लेनदेन का पता लगाना भी मुश्किल है.

आईटी महाशक्ति के रूप में पहचाने जाने वाले भारत ने इस चुनौती से निपटने को लिए हुई चर्चा का नेतृत्व करके एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. पंत ने कहा कि आज विश्व में रैनसमवेयर हमले सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के समक्ष पेश सबसे बड़ी चुनौती हैं. उन्होंने कहा कि 2021 के अंत तक, रैनसमवेयर के हर 11 सेकंड में एक कम्पनी पर हमला करने और 20 अरब डॉलर तक का नुकसान पहुंचाने की आशंका है. Advertisement

यह भी पढ़ें-बाइडेन ने भारतीय मूल के रवि चौधरी को पेंटागन में अहम पद के लिए किया नॉमिनेट

पंत ने कहा कि इन बढ़ते खतरों को देखते हुए, हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि हमारे संगठन, विशेषकर राष्ट्र की महत्वपूर्ण अवसंरचनाएं सुरक्षित रहें. रैनसमवेयर रोधी पहल पर अब तक की पहली वैश्विक बैठक में भारत सहित 30 देश शरीक हुए. इस दो दिवसीय सम्मेलन की शुरुआत बुधवार को हुई थी. चीन और रूस ने व्हाइट हाउस की मेजबानी में आयोजित दो दिवसीय डिजिटल बैठक में भाग नहीं लिया.

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_2102 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-5018298451831-0").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_2102 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-International-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-5018298451831-0").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_2102=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-International-728x90-1", [728, 90], "div-gpt-ad-5018298451831-0").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-5018298451831-0");googletag.pubads().refresh([slot_2102]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-5018298451831-0");googletag.pubads().refresh(); });

(पीटीआई-भाषा)

Next
Latest news direct to your inbox.