यूक्रेन संकट के कारण चावल का निर्यात हुआ प्रभावित

Published on : 02:19 PM Mar 02, 2022

यूक्रेन संकट के कारण पूर्वी विदर्भ और छत्तीसगढ़ में उत्पादित चावल के निर्यात पर इसका गहरा असर पड़ा है. महाराष्ट्र के नागपुर से कई देशों में इसका निर्यात किया जाता है लेकिन रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते दोनों देशों में जाने वाले चावल के निर्यात को रोक दिया गया है.

महाराष्ट्र: यूक्रेन और रूस का असर न सिर्फ दोनों देशों पर, बल्कि भारतीय व्यापार पर भी पड़ रहा है. इस युद्ध के चलते कुछ दिन पहले सूरजमुखी तेल के आयात प्रभावित होने की खबर आई थी. वहीं अब चावल के निर्यात पर भी इसका असर दिख रहा (rice export affected after russia ukraine war) है. खबर है कि, पूर्वी विदर्भ में और छत्तीसगढ़ में उत्पादित चावल के निर्यात पर इसका असर पड़ा है. महाराष्ट्र के नागपुर से कई देशों में इसका निर्यात किया जाता है लेकिन रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते दोनों देशों में जाने वाले चावल के निर्यात को रोक दिया गया है. वहीं युद्ध से दवा कंपनियां भी प्रभावित हुई हैं.

Advertisement

window.googletag = window.googletag || {cmd: []}; googletag.cmd.push(function() {var userAgent = window.navigator.userAgent.toLowerCase();var Andrioid_App = /webview|wv/.test(userAgent);var Android_Msite = /Android|webOS|BlackBerry|IEMobile|Opera Mini/i.test(navigator.userAgent);var iosphone = /iPhone|iPad|iPod/i.test(navigator.userAgent);var is_iOS_Mobile = /(iPhone|iPod|iPad).*applewebkit(?!.*version)/i.test(navigator.userAgent); if ( Andrioid_App == true || iosphone == true ) {console.log("Mobile"); var slot_677 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-APP-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-6948513659589-1").addService(googletag.pubads());}else if(Android_Msite == true || is_iOS_Mobile == true){console.log("m site"); var slot_677 = googletag.defineSlot("/175434344/ETB-MDOT-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-300x250-1", [300, 250], "div-gpt-ad-6948513659589-1").addService(googletag.pubads());}else{console.log("Web"); var slot_677=googletag.defineSlot("/175434344/ETB-ADP-HIndi-Delhi-Bharat-728x90-1", [728, 90], "div-gpt-ad-6948513659589-1").addService(googletag.pubads());} googletag.pubads().enableSingleRequest();googletag.pubads().collapseEmptyDivs();googletag.enableServices(); googletag.display("div-gpt-ad-6948513659589-1");googletag.pubads().refresh([slot_677]);googletag.pubads().setCentering(true); });
googletag.cmd.push(function() { googletag.display("div-gpt-ad-6948513659589-1");googletag.pubads().refresh(); });

यह भी पढ़ें- रूस-यूक्रेन युद्ध से नीलगिरी में चाय व्यापार पर पड़ा असर

निर्यात किये जाने वाले चावल में अकेले यूक्रेन और रूस को लगभग 8,000 से 10,000 टन चावल का निर्यात किया जाता है जिसकी कीमत करीब 400 डॉलर प्रति टन है. लेकिन युद्ध की स्थिति के चलते काला सागर से गुजरने वाली शिपिंग कंपनियां अब अपने जहाज को उस क्षेत्र में भेजने से मना कर रही हैं. अगर देखा जाए तो इससे मासिक कारोबार पर भारतीय रुपये में लगभग 30-32 करोड़ रुपये का असर पड़ेगा. वहीं फार्मा सेक्टर की कंपनियों के जरिए भी यूक्रेन और रूस को दवाओं का बड़ा स्टॉक भेजा जाता है, जो इस वक्त बुरी तरह प्रभावित हुआ है. Advertisement

Read More :

Next
Latest news direct to your inbox.